ET राइज़िंग इंडियन टाइटल से सम्मानित अनुषा श्रीनिवासन अय्यर को मिला परफ़ेक्ट अचीवर्स अवॉर्ड्स 2019

ET राइज़िंग इंडियन टाइटल से सम्मानित अनुषा श्रीनिवासन अय्यर को मिला परफ़ेक्ट अचीवर्स अवॉर्ड्स 2019

लेखिका, निर्देशिका, मीडिया स्ट्रैटिजिस्ट, TEDx स्पीकर, लाइफ़ कोच, सोशल आंत्रप्योनोर, जेंडर-पशु-पर्यावरण कार्यकर्ता अनुषा श्रीनिवासन को हाल ही में परफ़ेक्ट अचीवर्स अवॉर्ड्स 2019 से सम्मानित किया गया । इस पुरस्कार की ख़ासियत है कि इसकी पहचान बड़ी-बड़ी उपलब्धियां हासिल करनेवाली महिलाओं को सम्मानित करना और महिला शक्तिकरण को बढ़ावा देना है।

दो ख़ूबसूरत बच्चों की सिंगल मदर अनुषा बेहद मेहनती हैं, जिनका मानना‌ है कि लोगों की मदद करना ही असल जीवन है। वो 70 कुत्ते और बिल्लियों की भी मां हैं, जिनका लालन-पोषण वो एक अर्से से अपने ही घर में बख़ूबी करती आ रही हैं। अपने पसंदीदा जानवरों के इस आश्रय को उन्होंने पावसिटिव (Pawsitive) फ़ार्म सैंकचुरी रखा है। वे मदद के लिए लाये जानेवाले हर जानवर की मदद करने‌ के लिए हमेशा ही तत्पर रहतीं हैं और उन्हें रोज़ाना ऐसे कई फ़ोन कॉल्स भी आते हैं। ऐसे में अनुषा का इरादा पावसिटिव को जानवरों के ऐसे आश्रय में तब्दील करना है, जहां सभी तरह के हर ज़रूरतमंद, बीमार, बुज़ुर्ग, उम्रदराज़, बेसहारा जानवर को प्रश्रय मिल सके। इनमें गधों, घोड़ों आदि तमाम तरह के जानवरों का शुमार होगा।

ग़ौरतलब है कि उनकी पहली शॉर्ट फ़िल्म सारे सपने हैं अपने समीक्षकों द्वारा ख़ूब सराही गयी थी और इसे तक़रीबन 80 फ़िल्म महोत्सवों में प्रदर्शित किया गया था। इतना ही नहीं, इस फ़िल्म को दुनियाभर के 18 प्रतिष्ठित फ़िल्म‌ महोत्सवों में पुरस्कृत भी किया गया।अनुषा वेलिंकर्स स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट, नैशनल कॉलेज में बतौर लेक्चरर भी पढ़ाती हैं और नियमित रूप से विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के पैनल की सदस्य के रूप में भी कार्यरत रहती हैं। वो इच्छुक छात्रों को नैतिक किस्म की पत्रकारिता और प्रभावी मीडिया रिलेशन्स के गुर सिखाने‌ के लिए एक संस्था भी चलाती हैं।

उल्लेखनीय है कि परफ़ेक्ट अचीवर्स अवॉर्ड्स 2019 पुरस्कार कार्यक्रम का आयोजन मुम्बई के अंधेरी स्थित कंट्री क्लब में किया गया था, जहां इस पैजेंट में देशभर से आए 15 फ़ाइनलिस्ट्स ने हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम का आयोजन गुरुभाई ठक्कर, ख़ुशी गुरुभाई और डॉ. गीत एस. ठक्कर की ओर से किया गया था। जिन अन्य हस्तियों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया, उनमें अलीशा पंवार, एंजेला क्रिसलिन्जकी, अशिया काज़ी, चाहत खन्ना, मोहित मल्होत्रा, करण शर्मा, दिलीप सेन, वैष्णवी मैक्डोनल्ड, सोनालिका प्रधान, विश्वजीत प्रधान, श्रुष्ति माहेश्वरी, सोनाली गुप्ता, संगीता कपूर, फ़िरोज़ ख़ान, पारस मदान, हिमांशु शुक्ला, ज्योति तोमर, भक्ति राठौड़, जीत सोनी,‌अमिता चोकसी, गोल्डन गाएज़ के तौर पर मशहूर संजय वाघचोरे-संजय गुजर, प्रीति सोनी, सुपर वुमन ग्रुप किरण गोलानी और विधायिका डॉ. भक्ति लावेकर का शुमार रहा।

 

By M.Sunder